श्रम विभाग में पंजीकरण कैसे करते है

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कोरोना से बचाव और उससे लड़ाई के साथ ही उन लोगों का भी ध्यान रख रही है जिन्हें इस वायरस के चलते अपना रोजगार पूरी तरह से बंद करना पड़ रहा है। इसका सीधा असर उन लोगों की कमाई पर पड़ रहा है। मजदूरी करने वाले जो रोजाना कमाते है और खाते है ऐसे ही लोगों की परेशानी को देखते हुए योगी सरकार ने फैसला लिया है कि वह प्रदेश के 35 लाख दिहाड़ी मजदूरों को व अन्य लोगों को एक-एक हजार रुपये भत्ता देगी। हमारी इस स्टोरी में जानिए कौन हैं वो लोग जिन्हें प्रदेश सरकार देगी 1000 रुपये भत्ता। इसके साथ ही अन्य श्रेणियों के लोगों को भी कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, जानिए हर जानकारी...

ठेले, खोमचे वाले 15 लाख लोगों को 1000 रुपये देने की घोषणा सीएम योगी ने की है.. योगी आदित्यनाथ ने 20 लाख 37 हजार श्रमिकों को भी उनके बैंक खातों में 1000 रूपए ट्रांसफर करने की बात कही है। हालांकि ये जो कुल 35 लाख 37 हजार लोग हैं वो उन लोगों में शामिल हैं श्रम विभाग में पंजीकृत हैं। अगर उस लिस्ट में आप अपना नाम देखना जाहते है तो लिंक निचे मिल जायेगा...
 ऐसे में जो लोग यूपी सरकार के श्रम विभाग में पंजीकृत नहीं हैं उनके लिए एक अलग नियम है यूपी सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों के भरण पोषण के लिए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना की अध्यक्षता में गठित समिति की सिफारिशें मानते हुए यह घोषणाएं की हैं। जो लोग इसमें कवर नहीं होते ऐसे लोगों को एक कमेटी चिन्हित करेगी।  यह कमेटी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में ऐसे लोगों को चिन्हित कर डीएम को रिपोर्ट देगी। इसके बाद उन्हें भी 1000 रुपये डीबीटी के माध्यम से प्रदान किया जाएगा। ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में मजदूरों, गरीबों के लिए तत्काल खाद्यान्न मुहैया कराए जाने का भी एलान मुख्यमंत्री ने किया है।
 मॉल्स आदि में काम करने वाले प्रबंधन को 1 करोड़ 65 लाख रुपये और 31 हजार मनरेगा परिवारों को एक महीने का खाद्यान्न निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। जो भी परिवार किन्हीं वजहों से सूची में छूटे हैं, डीएम उनको तत्काल एक हजार रुपये दिलाएंगे। अगर आप अपना नाम लिस्ट में देखना जाहते है तो यहाँ पर क्लिक करके देख सकते है 

Shramik Panjikaran 2020- हम आपको बतायेंगे श्रम विभाग में पंजीकरण कैसे करते है |
उत्तर प्रदेश वर्तमान समय में मजदूरों के लिए चलायी जा रही सरकारी योजना के तहत 12 हज़ार रूपये से लेकर 1 लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है इन सभी योजनाओ का लाभ उठाने के लिए श्रमिकों को सबसे पहले अपना पंजीकरण करवाना होगा और अपना श्रमिक कार्ड बनवाना होगा | Shramik Pnjikaran 2020 करने के लिए आवेदक की आयु न्यूनतम 18 से 60 वर्ष के मध्य होनी चाहिए ...
 Uttar Pradesh Shramik Registration 2020 का मुख्य उद्देश्य है कि जो लोग अपनी  आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने और जीवन यापन करने के लिए मजदूरी करते है तथा  किसी निर्माण क्षेत्र में कार्य कर रहे है तो उन सभी लोगो को आर्थिक सहायता पहुंचाने के लिए सरकार ने  श्रमिक पंजीकरण की प्रक्रिया को आरम्भ किया है इस योजना के ज़रिये यूपी के मजदूर लोगो को तथा  उनकी बेटियों और बेटो को  उत्तर प्रदेश की श्रमिक से जुड़ी सरकारी योजना से अवगत कराना और उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करना | राज्य के सभी श्रमिक अपना पंजीकरण करवाकर श्रमिक कार्ड बनवा सकते है और उससे कई तरह के लाभ प्राप्त कर सकते है |

कौन कौन श्रमिक पंजीकरण करवा सकते है
बिल्डिंग का कार्य करने वाले
कुआ खोदने वाले
छप्पर छानेवाले
कारपेंटर का कार्य करने वाले
राजमिस्त्री
लोहार
प्लम्बर
सड़क निर्माण करने वाले
इलेक्ट्रिक वाले
पुताई करने वाले
हतोड़ा चलानेवाले
मोजेक पोलिश
चट्टान तोड़ने वाले
निर्माण स्थल पर चौकीदारी करने वाले
पत्थर तोड़ने वाले
लेखाकार का काम करने वाले
बांध  प्रबंधक ,भवन निर्माण के अधीन कार्य करने वाले
खिड़की ग्रिल एवं दरवाज़ों की गढ़ाई और स्थापना करने वाले
इट भट्टों पर इट का निर्माण करने वाले
सीमेंट ,पत्तर ढोने का काम करने वाले
चुना बनाने का काम करने वाले
इन 17 सरकारी योजनाओ का लाभ उठा सकते है श्रमिक मजदूर वर्ग के लोग
मेधावी छात्र पुरुस्कार योजना
शिशु हितलाभ योजना
निर्माण कामगार बालिका मदद योजना
निर्माण श्रमिक भोजन सहायता योजना
मातृत्व हितलाभ योजना
संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
कौशल विकास तकनीकी योजना
आवासीय विद्यालय योजना
सोर ऊर्जा सहायता योजना
चिकित्सा सुविधा योजना
कन्या विवाह योजना
आवास सहायता योजना
गंभीर बीमारी सहायता योजना
अक्षमता पेंशन योजना
पेंशन सहायता योजना
निर्माण कामगार मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना
निर्माण कामगार अन्ते यष्टि योजना

श्रमिक पंजीकरण के लाभ क्या है 

कन्या विवाह योजना के तहत दो बेटियों की शादी पर 55 -55 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता सरकार द्वारा प्रदान की जाती है
मेधावी छात्र योजना के अंतर्गत कक्षा 5 से 7 तक 4 हज़ार रूपये ,कक्षा 8 में 5 हज़ार रूपये ,कक्षा 9 व दस में 5 हज़ार रूपये ,कक्षा 11 व 12 में 8 हज़ार रूपये ,स्नातक ,से ऊपर इंजीनियरिंग या डिग्री की पढाई करने पर 11 हज़ार रूपये से 22 हज़ार रूपये तक दिए जायेगे |
बी ए के स्टूडेंट्स  को 13 से 15 हज़ार रूपये और ऍम ए के स्टूडेंट्स को 15 से 17 हज़ार रूपये |
मातृत्व हितलाभ योजना के अंतर्गत पंजीकरण महिलाओ को 12 हज़ार रूपये और शिशु लाभ हेतु लड़का होने पर 10 हज़ार रूपये और लड़की होने पर 12 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी |
आवास योजना के अंतर्गत मकान बनाने के लिए 1 लाख रूपये तथा भवन मरम्मत के लिए 15 हज़ार रूपये दिए जायेगे |
इन सभी योजनाओ का लाभ श्रमिक पंजीकरण करवा कर और श्रमिक कार्ड बनवाने  के बाद मजदूर लोग उठा सकते है|
Shramik Panjikaran के लिए दस्तावेज़ (पात्रता )
आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए ।
आवेदक की आयु  18 से 60 वर्ष के मध्य होनी चाहिए |
जिन श्रमिकों ने पिछले 12 महीने में कम से कम 90 दिन निर्माण श्रमिक के रूप में कार्य किया हो |
श्रमिक पंजीकरण में केवल परिवार के मुखिया के नाम पर ही श्रमिक कार्ड बनता है |
आधार कार्ड
राशन कार्ड
मतदाता पहचान पत्र
भामाशाह कार्ड
बैंक का विवरण
मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटो
परिवार के सभी सदस्यों का पहचान पत्र
हम आपको बतायेंगे श्रम विभाग में पंजीकरण कैसे करते है |
राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी अपना पंजीकरण करना चाहते है वो अपने करीबी जनसेवा केंद्र या ग़ाव के प्रधान से संपर्क करके आपना आवेदन कर सकते है

Post a Comment

2 Comments